Connect with us

Hindi

Isro Said Chandrayaan-2 Orbiter Detects Solar Proton Events – इसरो: चंद्रयान-2 ऑर्बिटर ने सौर प्रोटॉन घटनाओं का पता लगाया, ग्रह प्रणालियों को समझने में मिलेगी मदद

Published

on


सार

इसरो ने बताया कि 18 जनवरी को इस उपकरण ने कोरोनल मास इजेक्शन (सीएमई) का भी पता लगाया, जो आयनित सामग्री और चुंबकीय क्षेत्रों की एक शक्तिशाली धारा है और कुछ दिनों बाद पृथ्वी पर पहुंचती है। इससे भू-चुंबकीय तूफान आते हैं और ध्रुवीय आकाश में प्रकाश पैदा होता है। इसरो ने कहा कि इस तरह के बहु-बिंदुओं वाले अवलोकन विभिन्न ग्रह प्रणालियों को समझने में मदद करते हैं।

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

चंद्रयान-2 ऑर्बिटर पर मौजूद एक ‘लार्ज एरिया सॉफ्ट एक्स-रे स्पेक्ट्रोमीटर’ (क्लास) ने सौर प्रोटॉन घटनाओं (एसपीई) का पता लगाया है, जो अंतरिक्ष में मनुष्यों के लिए विकिरण जोखिम को काफी बढ़ा देती हैं। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने बुधवार को यह जानकारी दी।

इसरो ने बताया कि 18 जनवरी को इस उपकरण ने कोरोनल मास इजेक्शन (सीएमई) का भी पता लगाया, जो आयनित सामग्री और चुंबकीय क्षेत्रों की एक शक्तिशाली धारा है और कुछ दिनों बाद पृथ्वी पर पहुंचती है। इससे भू-चुंबकीय तूफान आते हैं और ध्रुवीय आकाश में प्रकाश पैदा होता है। इसरो ने कहा कि इस तरह के बहु-बिंदुओं वाले अवलोकन विभिन्न ग्रह प्रणालियों को समझने में मदद करते हैं।

जब सूर्य सक्रिय होता है, तो सौर फ्लेयर्स नामक शानदार विस्फोट होते हैं जो कभी-कभी ऊर्जावान कणों (इसे सौर प्रोटॉन इवेंट्स या एसपीई कहा जाता है) को इंटरप्लानेटरी स्पेस में बाहर निकालते हैं। इनमें से अधिकांश उच्च ऊर्जा वाले प्रोटॉन होते हैं जो अंतरिक्ष प्रणालियों को प्रभावित करते हैं और अंतरिक्ष में मनुष्यों के लिए विकिरण जोखिम में उल्लेखनीय वृद्धि करते हैं।

अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि ये  ऊर्जावान कण पृथ्वी के मध्य वायुमंडल में बड़े पैमाने पर आयनीकरण का कारण बन सकते हैं। कई तीव्र सौर फ्लेयर्स के साथ सीएमई, आयनित सामग्री और चुंबकीय क्षेत्रों की एक शक्तिशाली धारा होती है, जो कुछ दिनों बाद पृथ्वी पर पहुंचती है, जिससे भू-चुंबकीय तूफान आते हैं और ध्रुवीय आकाश को औरोरा से रोशन करते हैं।

इसरो ने कहा, ‘सोलर फ्लेयर्स को उनकी ताकत के अनुसार वर्गीकृत किया जाता है। सबसे छोटे ए-क्लास, उसके बाद बी, सी, एम और एक्स होते हैं। प्रत्येक अक्षर ऊर्जा उत्पादन में 10 गुना वृद्धि का प्रतिनिधित्व करता है। इसका मतलब है कि एम-क्लास फ्लेयर सी-क्लास फ्लेयर की तुलना में दस गुना अधिक तीव्र है और बी-क्लास फ्लेयर की तुलना में 100 गुना अधिक तीव्र होता है।’

प्रत्येक अक्षर वर्ग के भीतर 1 से 9 तक का एक महीन पैमाना होता है – एक एम2 फ्लेयर एम1 फ्लेयर की ताकत से दोगुना होता है। हाल ही में, दो एम-क्लास सोलर फ्लेयर्स थे। अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि एक फ्लेयर (एम5.5) ने ऊर्जावान कणों को इंटरप्लेनेटरी स्पेस में और दूसरे फ्लेयर (एम1.5) के साथ कोरोनल मास इजेक्शन (सीएमई) किया।

एसपीई कार्यक्रम के दौरान नासा के जियोस्टेशनरी ऑपरेशनल एनवायर्नमेंटल सैटेलाइट (जीओईएस) ने पृथ्वी के चारों ओर परिक्रमा करते हुए देखा था। हालांकि, जीओईएस द्वारा सीएमई ईवेंट का पता नहीं लगाया गया था। इसरो ने कहा कि चंद्रयान-2 ‘लार्ज एरिया सॉफ्ट एक्स-रे स्पेक्ट्रोमीटर’ (क्लास) के ऑन-बोर्ड चंद्रयान-2 ऑर्बिटर ने 20 जनवरी, 2022 को हुई एम5.5 क्लास सोलर फ्लेयर के कारण एसपीई का पता लगाया। इसमें कहा गया है कि क्लास इंस्ट्रूमेंट ने सीएमई इवेंट का भी पता लगाया क्योंकि यह 18 जनवरी को हुई एम1.5 क्लास सोलर फ्लेयर के कारण चंद्रमा से होकर गुजरा था।

इसरो ने कहा कि सीएमई लगभग 1000 किमी/सेकेंड की गति से यात्रा करता है और इसे पृथ्वी तक पहुंचने में लगभग 2-3 दिन लगते हैं। हालांकि इस घटना को कैद करने में जीओईएस उपग्रह से चूक हुई, क्योंकि पृथ्वी का चुंबकीय क्षेत्र ऐसी घटनाओं को परिरक्षण प्रदान करता है। हालांकि, इस घटना को चंद्रयान -2 द्वारा रिकॉर्ड किया गया था।

चंद्रयान -2 के क्लास पेलोड ने एसपीई और सीएमई दोनों घटनाओं को सूर्य पर दो तीव्र फ्लेयर्स से गुजरते हुए देखा। चंद्रयान-2 को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतारने की योजना बनाई गई थी। चंद्रयान -2 को 22 जुलाई, 2019 को लॉन्च किया गया था।

विस्तार

चंद्रयान-2 ऑर्बिटर पर मौजूद एक ‘लार्ज एरिया सॉफ्ट एक्स-रे स्पेक्ट्रोमीटर’ (क्लास) ने सौर प्रोटॉन घटनाओं (एसपीई) का पता लगाया है, जो अंतरिक्ष में मनुष्यों के लिए विकिरण जोखिम को काफी बढ़ा देती हैं। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने बुधवार को यह जानकारी दी।

इसरो ने बताया कि 18 जनवरी को इस उपकरण ने कोरोनल मास इजेक्शन (सीएमई) का भी पता लगाया, जो आयनित सामग्री और चुंबकीय क्षेत्रों की एक शक्तिशाली धारा है और कुछ दिनों बाद पृथ्वी पर पहुंचती है। इससे भू-चुंबकीय तूफान आते हैं और ध्रुवीय आकाश में प्रकाश पैदा होता है। इसरो ने कहा कि इस तरह के बहु-बिंदुओं वाले अवलोकन विभिन्न ग्रह प्रणालियों को समझने में मदद करते हैं।

जब सूर्य सक्रिय होता है, तो सौर फ्लेयर्स नामक शानदार विस्फोट होते हैं जो कभी-कभी ऊर्जावान कणों (इसे सौर प्रोटॉन इवेंट्स या एसपीई कहा जाता है) को इंटरप्लानेटरी स्पेस में बाहर निकालते हैं। इनमें से अधिकांश उच्च ऊर्जा वाले प्रोटॉन होते हैं जो अंतरिक्ष प्रणालियों को प्रभावित करते हैं और अंतरिक्ष में मनुष्यों के लिए विकिरण जोखिम में उल्लेखनीय वृद्धि करते हैं।

अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि ये  ऊर्जावान कण पृथ्वी के मध्य वायुमंडल में बड़े पैमाने पर आयनीकरण का कारण बन सकते हैं। कई तीव्र सौर फ्लेयर्स के साथ सीएमई, आयनित सामग्री और चुंबकीय क्षेत्रों की एक शक्तिशाली धारा होती है, जो कुछ दिनों बाद पृथ्वी पर पहुंचती है, जिससे भू-चुंबकीय तूफान आते हैं और ध्रुवीय आकाश को औरोरा से रोशन करते हैं।

इसरो ने कहा, ‘सोलर फ्लेयर्स को उनकी ताकत के अनुसार वर्गीकृत किया जाता है। सबसे छोटे ए-क्लास, उसके बाद बी, सी, एम और एक्स होते हैं। प्रत्येक अक्षर ऊर्जा उत्पादन में 10 गुना वृद्धि का प्रतिनिधित्व करता है। इसका मतलब है कि एम-क्लास फ्लेयर सी-क्लास फ्लेयर की तुलना में दस गुना अधिक तीव्र है और बी-क्लास फ्लेयर की तुलना में 100 गुना अधिक तीव्र होता है।’

प्रत्येक अक्षर वर्ग के भीतर 1 से 9 तक का एक महीन पैमाना होता है – एक एम2 फ्लेयर एम1 फ्लेयर की ताकत से दोगुना होता है। हाल ही में, दो एम-क्लास सोलर फ्लेयर्स थे। अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि एक फ्लेयर (एम5.5) ने ऊर्जावान कणों को इंटरप्लेनेटरी स्पेस में और दूसरे फ्लेयर (एम1.5) के साथ कोरोनल मास इजेक्शन (सीएमई) किया।

एसपीई कार्यक्रम के दौरान नासा के जियोस्टेशनरी ऑपरेशनल एनवायर्नमेंटल सैटेलाइट (जीओईएस) ने पृथ्वी के चारों ओर परिक्रमा करते हुए देखा था। हालांकि, जीओईएस द्वारा सीएमई ईवेंट का पता नहीं लगाया गया था। इसरो ने कहा कि चंद्रयान-2 ‘लार्ज एरिया सॉफ्ट एक्स-रे स्पेक्ट्रोमीटर’ (क्लास) के ऑन-बोर्ड चंद्रयान-2 ऑर्बिटर ने 20 जनवरी, 2022 को हुई एम5.5 क्लास सोलर फ्लेयर के कारण एसपीई का पता लगाया। इसमें कहा गया है कि क्लास इंस्ट्रूमेंट ने सीएमई इवेंट का भी पता लगाया क्योंकि यह 18 जनवरी को हुई एम1.5 क्लास सोलर फ्लेयर के कारण चंद्रमा से होकर गुजरा था।

इसरो ने कहा कि सीएमई लगभग 1000 किमी/सेकेंड की गति से यात्रा करता है और इसे पृथ्वी तक पहुंचने में लगभग 2-3 दिन लगते हैं। हालांकि इस घटना को कैद करने में जीओईएस उपग्रह से चूक हुई, क्योंकि पृथ्वी का चुंबकीय क्षेत्र ऐसी घटनाओं को परिरक्षण प्रदान करता है। हालांकि, इस घटना को चंद्रयान -2 द्वारा रिकॉर्ड किया गया था।

चंद्रयान -2 के क्लास पेलोड ने एसपीई और सीएमई दोनों घटनाओं को सूर्य पर दो तीव्र फ्लेयर्स से गुजरते हुए देखा। चंद्रयान-2 को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतारने की योजना बनाई गई थी। चंद्रयान -2 को 22 जुलाई, 2019 को लॉन्च किया गया था।



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like

Categories