Virat Kohli 100th Test Special Check Virat Kohli Top 10 Innings Out Of 170 Innings At Adelaide Melbourne And Pune – Virat Kohli 100th Test: एडिलेड, मेलबर्न और पुणे विराट के लिए खास, जानें कोहली की 10 बेहतरीन पारियों के बारे में – News Box India
Connect with us

Hindi

Virat Kohli 100th Test Special Check Virat Kohli Top 10 Innings Out Of 170 Innings At Adelaide Melbourne And Pune – Virat Kohli 100th Test: एडिलेड, मेलबर्न और पुणे विराट के लिए खास, जानें कोहली की 10 बेहतरीन पारियों के बारे में

Published

on

[ad_1]

सार

श्रीलंका के खिलाफ मोहाली में होने वाला पहला टेस्ट मैच भारत के पूर्व कप्तान विराट कोहली का 100वां टेस्ट मैच होगा। कोहली ने 22 साल की उम्र में 2011 में वेस्टइंडीज के खिलाफ किंग्सटन में अपना पहला टेस्ट खेला था।

ख़बर सुनें

श्रीलंका के खिलाफ मोहाली में होने वाला पहला टेस्ट मैच भारत के पूर्व कप्तान विराट कोहली का 100वां टेस्ट मैच होगा। कोहली ने 22 साल की उम्र में 2011 में वेस्टइंडीज के खिलाफ किंग्सटन में अपना पहला टेस्ट खेला था। डेब्यू के 11 साल बाद वे 100 टेस्ट तक पहुंच गए हैं। पहले मैच में सिर्फ चार और 15 रन की पारी खेलने वाले कोहली आज दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में शामिल हो चुके हैं।

सीमित ओवरों के क्रिकेट में कोहली को किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है, लेकिन टेस्ट क्रिकेट उनके दिल के करीब है। विराट ने 2014 में महेंद्र सिंह धोनी से भारत की टेस्ट कप्तानी संभाली थी। एक बल्लेबाज के रूप में कोहली ने दुनिया भर में रन बनाए हैं। उनके नाम 99 टेस्ट मैचों में 7962 रन बनाए हैं। इस दौरान 27 शतक और 28 अर्धशतक लगाए हैं। उनका औसत 50.39 का रहा है। विराट ने अपने करियर में कई शानदार पारियां खेली हैं। 

हम आपको यहां उनकी 10 बेहतरीन पारियों के बारे में बता रहे हैं:
ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 116 रन (एडिलेड, 2012)
टेस्ट डेब्यू के छह महीने के बाद 2011-12 के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया था। पहले दो टेस्ट मैच में वे कुल 43 रन ही बना सके थे। पर्थ में खेले गए तीसरे मैच में उन्होंने 44 और 75 रन की पारी खेली थी। इसके बाद अपने टेस्ट करियर की 14वीं पारी में विराट ने धमाकेदार बल्लेबाजी की। उन्होंने टेस्ट करियर का पहला शतक लगाया। छठे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए एडिलेड में विराट ने 116 रन बनाए थे। भारत ने कुल 272 रन बनाए हैं। इसके बावजूद टीम को जीत नहीं मिली थी। भारत सीरीज 0-4 से हार गया था, लेकिन कोहली का आगमन टेस्ट क्रिकेट में हो चुका था।

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 119 रन (जोहानिसबर्ग, 2013)
भारत ने 2013 में दो टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए दक्षिण अफ्रीका का दौरा किया था। जोहानिसबर्ग में कोहली ने चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए शानदार पारी खेली थी। भारत के दोनों ओपनर 24 रन तक आउट हो गए थे। इसके बाद कोहली ने मोर्चा संभाला था। डेल स्टेन, वर्नोन फिलैंडर, मोर्ने मोर्केल, जैक कालिस और इमरान ताहिर जैसे गेंदबाजों का सामना करते हुए कोहली ने 181 गेंद पर 119 रन की जबरदस्त पारी खेली थी। भारत ने कुल 280 रन बनाए थे। कोहली का यह दूसरा विदेशी शतक था।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 141 रन (एडिलेड, 2014)
भारतीय टीम 2013-14 में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गई थी। इस सीरीज के बीच में ही धोनी ने टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लिया था। वह दौरा कोहली के लिए शानदार रहा था। उन्होंने एडिलेड में खेले गए पहले टेस्ट की दोनों पारियों में शतक लगाए थे। विराट ने पहली पारी में 115 रन बनाए थे। इसके बाद भारत को जीत के लिए 364 रनों का लक्ष्य मिला था। तब कोहली ने दूसरी पारी में 141 रन बनाए थे। हालांकि, टीम इंडिया 48 रन से हार गई थी।
ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 169 रन (मेलबर्न, 2014)
ऑस्ट्रेलिया दौरे पर दो टेस्ट मैच में हार के बाद भारतीय टीम जीत की उम्मीद के साथ मेलबर्न पहुंची थी। कोहली दूसरे टेस्ट में सफल नहीं हो पाए थे। मिशेल जॉनसन, रयान हैरिस, जोश हेजलवुड, शेन वॉटसन और नाथन लियोन के खिलाफ विराट ने मेलबर्न में शानदार वापसी की। उन्होंने 169 रन बनाए थे। विराट ने अजिंक्य रहाणे के साथ चौथे विकेट के लिए 262 रन की साझेदारी की थी। रहाणे ने 147 रन की पारी खेली थी। भारत ने इस मैच को ड्रॉ करा दिया था। इसी मैच के बाद धोनी ने संन्यास लिया था। फिर कोहली को टीम की कप्तानी मिली थी।

इंग्लैंड के खिलाफ 235 रन (मुंबई, 2016)
इंग्लैंड ने 2016 में पांच टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए भारत का दौरा किया था। पहला टेस्ट ड्रॉ होने के बाद इंग्लिश टीम दूसरे और तीसरे टेस्ट में हार गई थी। वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए चौथे टेस्ट में कोहली ने अपना तीसरा दोहरा शतक लगाया था। यह उनका उस समय सर्वोच्च स्कोर था। इंग्लैंड ने उस मैच में पहले बल्लेबाजी की और 400 रनों का ठोस स्कोर बनाया। कोहली ने 340 गेंदों में 235 रनों की पारी खेली और भारत ने 631 रनों का पहाड़ स्कोर खड़ा किया। इंग्लैंड की टीम यह मैच एक पारी से हार गई थी।

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 153 रन (सेंचुरियन, 2018)
भारत ने 2018 में दक्षिण अफ्रीका में तीन टेस्ट खेले और आखिरी मैच जीतकर सीरीज 2-1 से गंवा दी। दूसरे टेस्ट में कोहली खास अंदाज में नजर आए थे। मेजबान टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 335 रन बनाए, जिसके जवाब में भारत 28 रन पर दो विकेट गंवाकर संघर्ष कर रहा था। तभी कोहली क्रीज पर आ गए और एक बार फिर विपक्षी टीम पर हमला बोल दिया। उन्होंने मुरली विजय के साथ तीसरे विकेट के लिए 79 रन जोड़े। इसके बाद दूसरे छोर से विकेट गिरने के बाद विराट तेजी से रन बनाने लगे। उन्होंने 153 रन बनाए।
इंग्लैंड के खिलाफ 149 रन (बर्मिंघम, 2018)
यह कोहली के करियर की सबसे महत्वपूर्ण पारी में से एक है। वे 2014 में इंग्लैंड दौरे पर बुरी तरह फेल हो गए थे। उन्होंने तब 10 पारियों में सिर्फ 134 रन बनाए थे, लेकिन 2018 में विराट ने सबकुछ बदल दिया। उन्होंने बर्मिंघम में 225 गेंदों पर 149 रन बनाए। वे सभी टेस्ट खेलने वाले देशों में तब शतक लगाने वाले बल्लेबाज बन गए थे। यह पांच टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला मुकाबला था। इंग्लैंड ने पहली पारी में 287 रन बनाए थे। भारतीय टीम ने कोहली की पारी की बदौलत टक्कर तो दी, लेकिन मैच में 31 रनों से हार का सामना करना पड़ा था।

इंग्लैंड के खिलाफ 103 (नॉटिंघम, 2018)
2018 के दौरे में पहले दो टेस्ट हारने के बाद भारत ने इंग्लैंड की धरती पर एक मुश्किल जीत हासिल की। कोहली ने पहली पारी में 97 रन बनाए थे, लेकिन दूसरी पारी में वे शतक से नहीं चूके। उन्होंने 197 गेंद पर 103 रन बनाकर भारत को मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया था। इंग्लैंड को 521 रन का लक्ष्य मिला था। भारत अंत में सीरीज 1-4 से हार गया था, लेकिन कोहली ने 10 पारियों में 593 रन बनाकर अपना लोहा मनवाया था।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 123 (पर्थ, 2018)
भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों के लिए ऑस्ट्रेलिया का यह दौरा सबसे यादगार है। टीम इंडिया पहली बार वहां टेस्ट सीरीज जीतने में सफल हुई थी। उसने चार मैचों की सीरीज को 2-1 से अपने नाम किया था। एडिलेड टेस्ट जीतने के बाद पर्थ में भारतीय टीम उत्साह के साथ उतरी थी। ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 326 रन बनाए थे। ओपनर केएल राहुल और मुरली विजय के आठ रन ही पर आउट होने के बाद कोहली ने मिचेल स्टार्क, जोश हेजलवुड, पैट कमिंस और नाथन लियोन का बखूबी सामना किया था। उन्होंने 257 गेंद पर 123 रन बनाए थे। इसके बावजूद टीम को जीत नहीं मिली थी। ऑस्ट्रेलिया टीम ने मैच को 146 रन से जीतकर सीरीज को 1-1 की बराबरी पर ला दिया था।

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ नाबाद 254 (पुणे, 2019)
दक्षिण अफ्रीका का 2019 का भारत दौरा उनके लिए भूलने वाला था। वे सीरीज में 0-3 से हार गए थे।  भारत ने पहला टेस्ट 203 रन से, दूसरा एक पारी और 137 रन से और तीसरा टेस्ट एक पारी और 202 रन से अपने नाम किया था। यह कप्तान कोहली के लिए एक महत्वपूर्ण जीत थी। बल्लेबाज के रूप में भी उनके लिए सीरीज यादगार थी। उन्होंने पुणे में दूसरे मैच के दौरान अपना सर्वोच्च टेस्ट स्कोर बनाया था। भारत ने पहले बल्लेबाजी की और पांच विकेट पर 601 रन का विशाल स्कोर बनाया था। इसमें कप्तान कोहली ने 336 गेंदों पर नाबाद 254 रन बनाए थे। वर्नोन फिलैंडर, कगिसो रबाडा, एनरिच नोर्त्जे, केशव महाराज और सेनुरन मुथुसामी जैसे गेंदबाज कोहली को परेशान नहीं कर सके थे। उन्होंने अपनी मैराथन पारी में 33 चौके और दो छक्के लगाए थे।

विस्तार

श्रीलंका के खिलाफ मोहाली में होने वाला पहला टेस्ट मैच भारत के पूर्व कप्तान विराट कोहली का 100वां टेस्ट मैच होगा। कोहली ने 22 साल की उम्र में 2011 में वेस्टइंडीज के खिलाफ किंग्सटन में अपना पहला टेस्ट खेला था। डेब्यू के 11 साल बाद वे 100 टेस्ट तक पहुंच गए हैं। पहले मैच में सिर्फ चार और 15 रन की पारी खेलने वाले कोहली आज दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में शामिल हो चुके हैं।

सीमित ओवरों के क्रिकेट में कोहली को किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है, लेकिन टेस्ट क्रिकेट उनके दिल के करीब है। विराट ने 2014 में महेंद्र सिंह धोनी से भारत की टेस्ट कप्तानी संभाली थी। एक बल्लेबाज के रूप में कोहली ने दुनिया भर में रन बनाए हैं। उनके नाम 99 टेस्ट मैचों में 7962 रन बनाए हैं। इस दौरान 27 शतक और 28 अर्धशतक लगाए हैं। उनका औसत 50.39 का रहा है। विराट ने अपने करियर में कई शानदार पारियां खेली हैं। 

हम आपको यहां उनकी 10 बेहतरीन पारियों के बारे में बता रहे हैं:

[ad_2]

Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like

Categories